Ek aur raat

एक और रात
यूँ ही गुज़र गयी |
ना तुमने याद किया
ना हमने गुस्ताखी की |

फिर दिल की बात
लफ्ज़ो पे आके रुक गयी |
ना तुम समझ पाएं
ना हमने कोशिश की |

तुमसे मिलने आएं
दिल ने कई बार दरख्वास्त की |
पर ना ग़म मान पाये
ना अश्क़ो ने मंज़ूरी दी |

आँखें बंद कर हम सो गए
सोचा सुबह ज़िन्दगी एक नयी करवट लेगी |
पर ना नसीब बदल पाएं
ना मजबूरियाँ बदली |

 

In English script:

Ek aur raat
Yun hi guzar gyi.
Na tumne yaad kiya,
Na humne gustaakhi ki.

Fir dil ki baat
Lafzo pe aake ruk gyi.
Na tum samajh paayein
Na humne koshish ki.

Tumse milne aaye
Dil ne kai baar darkhwast ki.
Par na gham maan paaye
Na ashqo ne manzoori di.

Aankhe band kar hum so gye
Socha subah zindagi ek nayi karwat legi.
Par na naseeb badal paayein
Na majbooriyaa badli.

क्या होता…

सोच रहे है,
तुम और हम साथ होते
तो ज़िन्दगी का ठिकाना क्या होता.

प्यार में तुम भी, लाचार होते
तो दिल का फ़साना क्या होता.

केह देते गर हम अपने दिल कि बात,
तो जुर्माना क्या होता.

याद तो तुम्हे कर लेते
पर सोच रहे है, बहाना क्या होता.

tumblr_mjc6jrlfQe1s7enmvo1_500

सोच रहे है,
तुम और हम साथ होते
तो इस चांदनी रात का नज़ारा क्या होता.

प्यार में हमारे, तुम क़ुर्बान होते
तो इस दिल कि खुशियो का किनारा क्या होता.

गर गर्दिश में न होते, हमारे नसीब के सितारे
तो जवाब तुम्हारा क्या होता.

पर जब किसी का नहीं हुआ
तो ये वक़्त हमारा क्या होता.