बदलती ज़िन्दगी

Rains

Rains

ये बारिश की बूँदें
गीली मिट्टी की खुशबू
पल पल तड़पती, बेचैन
मेरे तन्हा दिल की आरज़ू

बचपन की यादें
पहले बारिश की भिगन
माँ के हाथ के पकौड़े
रेडियो पे पुराने गानो का चलन

बेझिझक बारिश में नाचता,
मेरा मासूम बचपन
बेपरवाह खेलता, गाता
मेरे दोस्तों का संघटन

आज भी भीगने का मन करता है
पर वक़्त की कमी का बहाना होता है
जानते है मन की ख़ुशी सबसे बड़ी होती है
पर ख़ुशी से कीमती, हाथ की घडी होती है

जेब में कुछ पैसे है
बस्ते में कुछ चीज़ें है
मन में डर बीमारी का है
कंधो पे बोझ ज़िम्मेदारी का है

गीली मिट्टी की खुशबू अब भी हमको भाति है
पर कमरे से ही अब, ये बारिश सुहाती है
बचपन के बेफिक्र दिनों की कमी खलती है
पर शायद इसी तरह से, ये ज़िन्दगी बदलती है.

Zindagi – Ek Uljhan

Kabhi ek pal me hi
khushiyo ki bauchaar ho jaati hai,
Kabhi dur dur tak
muskuraane ki wajah nazar nahi aati hai.

Kabhi jisko dekh ke

chehra khushi se jhoom uthta hai,
Kabhi usi ko dekh ke
dil nafrat k kuwe se paani bharta hai.

Kabhi choti si galti ki saza

zindagi bhar tak bhugat te rehte hai,
Kabhi badi badi galtiyo ko bhi
jaane anjaane me andekha kar dete hai.
 
Choti choti jeeto me chupi hui
wo badi haar dikhaayi nahi deti,
Bhule beesre geeto me khoyi hui
wo ankahi daastan sunaayi nahi deti.
 
Choti choti mushkilo me
zindagi k bade sawal, kahi kho jaate hai,
Bante bigadte rishto me
jazbaato k maayne, kahi ghum ho jate hai.
 
Kabhi choti choti khushiyo me
zindagi k saare gham bhul jaate hai,
Aur kabhi halke fulke samvado me
saari samasyao k hal nikal aate hai.
 
Sahi galat karte karte
zindagi yun hi haath se phisal jaati hai,
Aur maut karib aate aate
sahi galat ki paribhasha hi badal jaati hai.
 
Haste-rote, girte-sambhalte
ye yun hi humesha
aage badhti jaati hai,
Ye zindagi aisi uljhan hai
na kabhi sulajhti hai
na kabhi samajh aati hai.